हनी प्रीत पहुंच चुकी है इस जगह पर, पुलिस के भी उड़े होश यह सुनकर !!

आप जानते ही होंगे गुरमीत राम रहीम के बारे में, जैसे की सब जानते हैं कि गुरमीत राम रहीम को रेप केस के लिए 20 साल की सज़ा हो चुकी है। यह केस 2002 से चल रहा था और अब जेक इस केस का फैसला हुआ है। राम रहीम के कुछ भक्त तो फैसले को सुन के अपने आप को रोक नहीं पाए और सुरु कर दिया पंचकूला को जलाना। हम लोग अब तक यही सोच रहे थे कि पंचकूला की हिंसा के पीछे राम रहीम के भक्तों का हाथ है परन्तु सच तो कुछ होर ही है। इस हिंसा

आप जानते ही होंगे गुरमीत राम रहीम के बारे में, जैसे की सब जानते हैं कि गुरमीत राम रहीम को रेप केस के लिए 20 साल की सज़ा हो चुकी है। यह केस 2002 से चल रहा था और अब जेक इस केस का फैसला हुआ है। राम रहीम के कुछ भक्त तो फैसले को सुन के अपने आप को रोक नहीं पाए और सुरु कर दिया पंचकूला को जलाना।

हम लोग अब तक यही सोच रहे थे कि पंचकूला की हिंसा के पीछे राम रहीम के भक्तों का हाथ है परन्तु सच तो कुछ होर ही है। इस हिंसा के पीछे भी हनी प्रीत का ही हाथ था, उन्ही के कुछ लोगो ने भक्तों को भड़काया था, जिसकी वजह से पंचुकला का यह हाल हुआ।

हरयाणा पुलिस यह भी दावा कर रही है कि उस दिन हनी प्रीत ने राम रहीम को पुलिस कस्टडी से भगाने कि भी योजना बनाई थी पर वो सफल नहीं हो पायी। पुलिस अब कुछ दिनों से हनी प्रीत को खोजने मे लगी हुई थी पर अब जाके पता चला है कि हनी प्रीत भारत मे है ही नहीं।

 

 

 

कुछ दिन पहले राम रहीम के कुछ ख़ास आदमियों को पुलिस ने अपनी हिरासत मे ले लिया। हिरासत मे लेने वालों का नाम है प्रदीप गोयल, विक्की और विजय। इन लोगों को पंचकूला मे हिंसा और राम रहीम को भागने की योजना के लिए गिरफ्तार किया है।

विजय को कुछ दिन पहले पंचकूला से गिरफ्तार किया है और प्रकाश को पंजाब से पर इन्होने कुछ ख़ास जानकारी पुलिस को नहीं दी। पर जब पुलिस ने प्रदीप को राजस्थान के एक शहर उदयपुर से हिरासत मे लिया तो उन्हें उनके सरों सवालों के जवाब मिल गए। प्रदीप से पूछताछ के बाद पता चला कि प्रदीप हनी प्रीत का खास ड्राइवर था और वो ही हनी प्रीत को हर जगह लेके जाता था। यह तक कि हिंसा मे भी प्रदीप का बहुत बड़ा हाथ था। प्रदीप ने बताया कि जब उसने हनी प्रीत को सिरसा मे छोड़ा तो होनेपरीत वहां से ओम प्रकाश नाम के व्यक्ति के साथ राजस्थान चली गयी और वो उसी के साथ इतने दिन से थी।

 

 

थोड़ी ज्यादा पूछताछ के बाद पता चला कि हनी प्रीत अभी नेपाल मे है जिसकी वजह से उससे पदकना और भी मुश्किल होगया। परन्तु हरयाणा पुलिस ने बिहार पुलिस को संपर्क करके हनी प्रीत को पदकने के लिए कहा है।
इस वजह से कुछ जिलों मे भी अब हाई अलर्ट कर दिया गया है और उन जिलों मे हनी प्रीत के पोस्टर भी लगा दिए गए हैं।

ओर जानने के लिए ज़रूर देखें यह विडियो :