बैडरूम में अपनाएंगे यह वास्तु टिप्स तो हमेशा बना रहेगा पति पत्नी में प्यार

घर में बैडरूम यानी की आराम करने का कमरा तनाव कम करने, स्वयं को पुनर्जीवित करने का एक आंतरिक और बेहद अंतरंग स्थान होता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार इस स्थान को शांतिपूर्ण व स्थिर वातावरण में होना चाहिए जिससे यहाँ आने वाले व्यक्ति को शांति का अनुभव हो और नकारात्मक प्रभावों से दूर रहे, साथ ही उसी क्षण सकारात्मक ऊर्जा का प्रसार भी होता रहे। इसके लिए बेडरूम में वास्तु के नियमों का पालन करना जरूरी होता है। पूर्व की ओर और उत्तर की ओर मुख करके सोना सुखदायक होता है, दक्षिण की ओर मुख करके नहीं सोना चाहिए. इसलिए हमेशा

घर में बैडरूम यानी की आराम करने का कमरा तनाव कम करने, स्वयं को पुनर्जीवित करने का एक आंतरिक और बेहद अंतरंग स्थान होता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार इस स्थान को शांतिपूर्ण व स्थिर वातावरण में होना चाहिए जिससे यहाँ आने वाले व्यक्ति को शांति का अनुभव हो और नकारात्मक प्रभावों से दूर रहे, साथ ही उसी क्षण सकारात्मक ऊर्जा का प्रसार भी होता रहे। इसके लिए बेडरूम में वास्तु के नियमों का पालन करना जरूरी होता है।

पूर्व की ओर और उत्तर की ओर मुख करके सोना सुखदायक होता है, दक्षिण की ओर मुख करके नहीं सोना चाहिए. इसलिए हमेशा पूर्व और उत्तर की ओर मुंह करके सोएं। बेडरूम में पति-पत्नी के प्रतीक के रूप में दो सुंदर सजावटी गमले रखें, बेडरूम में पानी की तस्वीर वाली पेंटिंग न लगाएं, इसके स्थान पर रोमांटिक कलाकृति, युगल पक्षी की तस्वीर लगाएं। अपने बेडरूम में नकदी का लॉकर स्थापित करने से बचें, यदि कोई और विकल्प नहीं हो तो एक तिजोरी दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखें जिसका मुख उत्तर या पूर्व की ओर खुलता हो।

अगर पति-पत्नी के बीच झगड़े बहुत ज्यादा होते हों तो दोनों के बीच प्रेम बढ़ाने के लिए सिरेमिक पॉट में लाल रंग की दो मोमबत्तियां जलाएं, कुछ ही दिनों में दोनों के बीच का मनमुटाव दूर हो जाएगा। बेडरूम में ड्रेसिंग टेबल कभी भी खिड़की के सामने न रखें और बेडरूम में फर्नीचर धनुषाकार, वृत्ताकार नहीं होने चाहिए इससे घर के सदस्यों का स्वास्थ्य बिगड़ा रहेगा। फेंगशुई के अनुसार दाम्पत्य जीवन सुखमय बनाने के लिए लव बर्ड, मैंडरेन डक जैसे पक्षी प्रेम के प्रतीक हैं. इनकी छोटी मूर्तियों का जोड़ा अपने बेडरूम में रखें। बेडरूम में खिड़की अवश्य होना चाहिए, कभी भी मुख्य द्वार की ओर पैर करके नहीं सोना चाहिए। पलंग के सामने आइना नहीं होना चाहिए  ऐसा करने से आप हमेशा परेशान रहेंगे।

आपका बेडरुम हमेशा साफ रखें, वहां धूल मिट्टी जमा न होने दें। बेडरुम में खिड़की, साइड टेबल या अन्य किसी भी वस्तु पर कोई भी किसी भी तरह की धूल मिट्टी न हो न ही चीजें अस्त-व्यस्त और इधर-उधर फैली हुई हो अन्यथा पति-पत्नी का दाम्पत्य जीवन मुश्किलों से भर जाएगा।हमेशा बेडरूम में भगवान राधाकृष्ण की तस्वीर लगाकर रखें। वहां भूल कर भी अघोरियों, तांत्रिकों या अन्य किसी काले जादू से संबंधित तस्वीर न लगाएं।

वास्तुशास्त्र के अनुसार रोज  बेड की चादरें और सिरहाने के कवर को बदल देना चाहिए क्योंकि सोते वक्त हम में से निकली हुई सारी नकारात्मकताओं को ये सोख लेते हैं। बेडरूम में तेज या बहुत भड़कीले रंग करवाने से बचें, सुखदायक रंगों को चुनें जैसे हल्का गुलाबी, हल्का हरा, हल्का नीला, लवैंडर इत्यादि. सफेद रंग हमेशा ही सुखदायक शांतिदायक होता है और बेडरूम के माहौल में स्थिरता प्रदान करता है। बेडरूम की पूर्व उत्तर दिशा खाली होनी चाहिए, ये किसी भी भारी फर्नीचर या खाली सामान से भरी हुई न हो और हमेशा ध्यान रखें कि यह दिशा साफ-सुथरी और व्यवस्थित हों।